Search NEWS you want to know

Monday, March 23, 2015

भगत सिंह इस बार न लेना काया भारतवासी की , देश भक्ति के लिए आज भी सजा मिलेगी फांसी की।


उनकी तुरबत पे दिया भी नही , जिनके खूं से जले थे चिराग़े वतन ,
सजते  हैं  मकबरे  उनके ,  बेचते  थे  जो  शहीदों  का     कफ़न।

No comments:

Post a Comment